top of page
  • Writer's pictureBB News Live

"पॉकेटमनी" से बदल जायेगी आशीष सिंह 'बंटी' की तकदीर



आशीष सिंह 'बंटी' की तकदीर सचमुच बदलनेवाली है। उनके हाथ ऐसी पॉकेटमनी लगी है जो उनको गंतव्य तक पहुँचाने में सक्षम है। यह पॉकेटमनी "गंगा" फेम अशोक घायल द्वारा निर्देशित एक फीचर फिल्म है। सूर्य संस्कृति एवं भारद्वाज फिल्म के बैनर तले निर्माताद्वय प्रदीप भारद्वाज व सी० शेखर की भोजपुरी फिल्म "पॉकेटमनी – एचीव द गोल" से आशीष सिंह 'बंटी' स्थापित हो जायेंगे। "पॉकेटमनी" में आशीष एक पंडितपुत्र हैं, कॉलेज में पढ़ते हैं। वह रैगिंग व हफ्ता वसूली के खिलाफ आवाज़ उठाते हैं। फिर साज़िश के तहत आतंकवादी गतिविधि से उसे जोड़ दिया जाता है। वहीं एक लड़की मिलती है जो उसका संबल बन जाती है। यही नायिका (टि्वंकल झा) अंततः आईपीएस बनती है और अभियुक्त अपराधियों को उनके अंजाम तक पहुँचाने का काम करती है। एक्शन, रोमांस, कॉमेडी से भरपूर इस थ्रिलर फिल्म से आशीष सिंह बंटी का कैरियर अवश्य रफ्तार पकड़ लेगा।

आशीष सिंह 'बंटी' की तीन और भोजपुरी फिल्में प्रदर्शन को तैयार हैं। दो निर्देशक प्रदीप आर. शर्मा की हैं, एक "नरसंहार" जिसमें आशीष की नायिका अलीशा खान हैं तो दूसरी है आकांक्षा दुबे के साथ "रांझणा"। तीसरी भोजपुरी नंदलाल आर० पांडेय की है - "प्रेम रोगी"। इसके अतिरिक्त वह अशोक अत्रि की दो हिन्दी फिल्मों के भी हीरो हैं। फिल्में हैं "दिल मेरी ना सुने" और "कराह"। आशीष सिंह बंटी भोजपुरी भाषा में "हमार भूमि", "बैरी कंगना २" और हिन्दी "गार्जियंस" में काम कर चुके हैं। एक्शन हीरो आशीष सिंह 'बंटी' का भविष्य उज्ज्वल है।

bottom of page