top of page
  • Writer's pictureRavi Nishad

घाटकोपर कांड में बड़ी मछलियाँ फंसने के आसार

एसआईटी कर रही है जांच

रवि निषाद।मुंबई. घाटकोपर पंतनगर पुलिस की हद के रेलवे पुलिस क्वार्टर के पेट्रोल पंप पर हुए कांड के आरोपी भावेश प्रभुदास भिंडे को 26 मई को जब पुनः न्यायालय में पेश किया गया तो उसे 29 मई तक पुलिस कस्टडी में रखने का आदेश मा.न्यायालय ने दिया है।वही इस मामले की जांच के लिए सरकार द्वारा गठित एसआईटी की जांच में कुछ बड़ी मछलियो के फंसने के आसार है।ऐसा संकेत जॉइन सीपी द्वारा लिए गए प्रेस कांफ्रेंस में मालुम पड़ा है।

गौरतलब है की 13 मई को घाटकोपर पंतनगर इलाके के पेट्रोल पंप पर लगे होर्डिंग के कोलैप्स कांड में दोषी पाए गए आरोपी को पुलिस जयपुर से गिरफ्तार कर मुंबई लाया गया।उक्त आरोपी को अपराध शाखा यूनिट 7 की पुलिस ने शुक्रवार 17 मई को न्यायालय में पेश किया था जहां पर मा.न्यायाधीश ने आरोपी को 26 मई तक पुलिस कस्टडी में रखने का आदेश दिया था।और 26 मई को न्यायालय ने भिंडे की पुलिस कस्टडी 29 मई तक बड़ा दी है।सूत्र बताते हैं की तत्कालीन रेल पुलिस आयुक्त कैशर खालिद व आरोपी भावेश भिंडे के बीच बिचौलिया का काम कर भावेश को होर्डिंग लगाने का परमिशन दिलवाने में प्रमुख भूमिका अदा करने वाले एएसआई जाकिर किलेदार की भूमिका इस मामले में संदिग्ध पाई गई है।उसके कॉल डिटेल, वाट्सअप चैटिंग की जांच पड़ताल भी अपराध शाखा की पुलिस ने की है।सूत्र यह भी बताते हैं की मनपा एन विभाग के संबंधित अधिकारियो से ले देकर ही यह काम किया गया था।जिसमे शक के दायरे में आए कुछ अधिकारियो की भी जांच उच्च स्तर पर की जा रही है।एक उच्च अधिकारी ने ऑफ़ द रिकार्ड हमे बताया की इस मामले की जांच पड़ताल के लिए एसआईटी का गठन किया गया है।जिसकी जांच पड़ताल कर जब एसआईटी की टीम अपनी रिपोर्ट पेश करेगी तब इस मामले नए नए ट्विस्ट आएंगे और अन्य कई लोगो की गिरफ्तारी भी इस मामले में हो सकती है ऐसा कल के प्रेस वार्ता के बाद कहा जा रहा।जिसकी जांच पड़ताल एसआईटी कर रही है।


Comentarios


bottom of page