top of page
  • Writer's pictureMeditation Music

इंटेल इंडिया के पूर्व प्रमुख को टक्कर मारने वाला ड्राइवर गिरफ्तार, कबूल किया जुर्म; कहा- आंख लगने से खोया कैब का नियंत्रण



 The driver who hit the former head of Intel India was arrested, confessed to the crime; Said- Lost control of cab due to eye injury
The driver who hit the former head of Intel India was arrested, confessed to the crime; Said- Lost control of cab due to eye injury

कबूल किया जुर्म; कहा- आंख लगने से खोया कैब का नियंत्रण

ठाणे। प्रसिद्ध टेक कंपनी इंटेल इंडिया के पूर्व कंट्री हेड अवतार सैनी की महाराष्ट्र के नवी मुंबई टाउनशिप में साइकिल चलाते समय तेज रफ्तार कैब की चपेट में आने से मौत हो गई थी। पुलिस ने अब आरोपी कैब ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है।

पूछताछ के दौरान कैब ड्राइवर ने कहा कि रात भर गाड़ी चलाने के कारण उसकी आंख झपक गई थी और उसने अपनी गाड़ी पर कंट्रोल खो दिया।

अस्पताल में सैनी ने तोड़ा दम

नवी मुंबई के नेरूल इलाके में बुधवार शाम 5.50 बजे हुई घटना के लिए कैब ड्राइवर ऋषिकेश खाड़े के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। टेक कंपनी इंटेल के पूर्व कंट्री हेड सैनी जब साइकिल चला रहे थे तो तेज रफ्तार कैब ने उन्हें टक्कर मार दी।

कैब ने सैनी की साइकिल को पीछे से टक्कर मार दी और खाड़े ने साइकिल के फ्रेम को कैब के अगले पहियों के नीचे फंसाकर मौके से भागने की कोशिश की। पुलिस ने कहा कि सैनी के साथी उन्हें अस्पताल ले गए, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

नींद की झपकी के कारण हुआ हादसा

एनआरआई पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने कहा, "पूछताछ के दौरान, खाड़े ने पुलिस को बताया कि पूरी रात गाड़ी चलाने के कारण उसकी झपकी आ गई, जिसके कारण उसने कैब पर नियंत्रण खो दिया और वह सैनी की साइकिल से टकरा गई"

कई धाराओं के तहत मामला दर्ज

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, खाड़े पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसमें 279 (रैश ड्राइविंग), 337 (जल्दबाजी या लापरवाही से कोई कार्य करके चोट पहुंचाना ताकि मानव जीवन को खतरे में डाला जा सके) और 304-ए (ऐसा करके किसी की मौत हो जाना, कोई भी उतावलापन या लापरवाही से किया गया कार्य गैर इरादतन हत्या की श्रेणी में नहीं आता) और मोटर वाहन अधिनियम के प्रावधान शामिल है।

पुलिस अधिकारी ने कहा, "आरोपी को अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है, क्योंकि उसके खिलाफ लागू धाराओं में अधिकतम कारावास सात साल से कम है।"

अंतिम संस्कार के लिए भारत आ रहा परिवार

मुंबई के उपनगरीय चेंबूर के निवासी सैनी को इंटेल 386 और 486 माइक्रोप्रोसेसर पर काम करने का श्रेय दिया गया। उन्होंने कंपनी के पेंटियम प्रोसेसर के डिजाइन का नेतृत्व भी किया। पुलिस ने कहा कि सैनी के रिश्तेदारों को इस घटना की जानकारी दे दी गई है और शव को ले जाने का इंतजार है। दरअसल, सैनी के परिवार के सदस्य विदेश में रहते हैं और उनके अंतिम संस्कार के लिए भारत आ रहे हैं।

Comentarios


bottom of page