top of page
  • Writer's pictureBB News Live

31 जनवरी तक चलेगा मराठा समुदाय का सर्वेक्षण




सर्वेक्षण हेतु 3932 प्रगणक एवं 299 पर्यवेक्षकों की नियुक्ति

पालघर। महाराष्ट्र राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के माध्यम से मराठा समुदाय के सामाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक पिछड़ेपन की जांच के लिए एक सर्वेक्षण किया जाएगा। कलेक्टर गोविंद बोडके ने बताया कि शासकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों के माध्यम से 31 जनवरी 2024 तक घर-घर सर्वेक्षण कराया जाएगा। सर्वे की जानकारी देने के लिए कलेक्टर कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया था, जिसमें कलेक्टर बोडके बोल रहे थे। इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर अपर्णा सोमानी-आरोलकर,डिप्टी कलेक्टर संजीव जाधवर,तहसीलदार डॉ. स्वाति घोगड़े एवं पत्रकार उपस्थित थे।


सर्वेक्षण के लिए विशेष अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर तैयार

साथ ही सर्वेक्षण के लिए एक विशेष अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर (एप) भी तैयार किया गया है। तालुकावार पर्यवेक्षक इस प्रकार हैं ; पालघर 61, वसई 56, दहानू 78, वाडा 27, तलासरी 38, विक्रमगढ़ 13, जव्हार 17, मोखाडा 9। तालुकावार पर्यवेक्षक 299 हैं।तालुकावार गणनाकार इस प्रकार हैं ; पालघर 905, वसई 525, दहानू 1166, वाडा 381, तलासरी 391, विक्रमगढ़ 195, जवाहर 237, मोखाडा 132। तालुकावार गणनाकारों की कुल संख्या 3932 है। पालघर जिले के 8 तालुकाओं के लिए नोडल अधिकारी यानी तहसीलदार और मास्टर ट्रेनर का प्रशिक्षण 20 जनवरी और 21 जनवरी को पूरा हो गया और तालुका स्तर के प्रगणकों का प्रशिक्षण भी पूरा हो गया।


कलेक्टर ने घर पर रहने की दी सलाह

कलेक्टर बोडके ने बताया कि पालघर जिले में उक्त सर्वेक्षण के उचित कार्यान्वयन के लिए गांवों में जाकर लोगों को उक्त सर्वेक्षण अवधि के दौरान घर पर रहने की सलाह दी गई और उनसे सर्वेक्षण करने वाले प्रगणकों की सहायता करने का आग्रह किया गया। कलेक्टर बोडके ने बताया कि ग्राम पंचायत/तलाठी कार्यालय में अधिसूचना प्रकाशित करने के निर्देश दिए गए हैं।


सर्वे के लिए भिवंडी मनपा के कुल 1067 कर्मचारी नियुक्त

इसी प्रकार भिवंडी मनपा आयुक्त इस पहल के नोडल अधिकारी हैं, जबकि उपायुक्त (मुख्यालय) सहायक नोडल अधिकारी हैं। नोडल अधिकारी के रूप में कार्य करेंगे। जबकि वार्ड स्तर पर वार्ड अधिकारी नोडल अधिकारी तथा कार्यालय निरीक्षक सहायक नोडल अधिकारी के रूप में कार्य करेंगे। मनपा क्षेत्र में कुल 43 आर्थिक रूप से पिछड़े समूह क्षेत्रों का सर्वेक्षण किया जाएगा। इसमें 999 प्रगणक एवं 68 पर्यवेक्षक, कुल 1037 कर्मचारी सर्वेक्षण हेतु नियुक्त किए गए हैं। इस सर्वेक्षण में पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा तैयार प्रश्नावली एक मोबाइल ऐप के माध्यम से तैयार की जाएगी। लक्षित लोगों से प्रश्नावली पूछी जाएगी और उसके माध्यम से एक सर्वेक्षण किया जाएगा। पिछड़ा वर्ग आयोग के निर्देशानुसार मनपा स्तर पर नियुक्त पर्यवेक्षक 23 जनवरी से 31 जनवरी 2024 की अवधि में पूरा किया जाएगा । इस संदर्भ में मनपा प्रशासक व आयुक्त अजय वैद्य ने अपील की है कि सर्वेक्षण कार्य 23 से 31 जनवरी 2024 की अवधि में पूरा किया जाएगा और नागरिक इस सर्वेक्षण कार्य में सहयोग करें।

Comments


bottom of page