top of page
  • Writer's pictureBB News Live

शिव छत्रपति पुरस्कार सूची पर उपमुख्यमंत्री ने सभी खेलों को दोबारा पुरस्कार के लिए शामिल करने के दिए निर्देश




मुंबई/पुणे। महाराष्ट्र ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने खेल अधिकारियों को पुरस्कार से बाहर किए गए सभी सात खेलों को बहाल करने का सुझाव दिया, यह मुद्दा उठाते हुए कि खेलों को राज्य खेल पुरस्कारों से बाहर करना सही नहीं है। यह आधार कि कोई खेल ओलंपिक में नहीं है या वह खेल देश में लोकप्रिय नहीं है इसने खेल अधिकारियों को छत्रपति राज्य खेल पुरस्कारों से सात खेलों को बाहर करने का निर्णय वापस लेने के लिए मजबूर किया।

बैठक में शामिल अधिकारी

इस फैसले पर बाहर किए गए खेलों के आयोजकों सहित राज्य के सभी खेल क्षेत्रों में आक्रोश फैल गया। खेल निदेशालय से लगातार पत्राचार के बाद मंत्रालय में महाराष्ट्र ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में खेल मंत्री संजय बनसोडे, उद्योग मंत्री उदय सामंत, खेल विभाग के मुख्य सचिव ओमप्रकाश गुप्ता, खेल आयुक्त सुहास दिवासे, उप निदेशक संजय सबनीस, महाराष्ट्र ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव नामदेव शिरगांवकर, कैरम एसोसिएशन के अरुण केदार, पावरलिफ्टिंग के संजय सरदेसाई, जिमनास्टिक्स उपस्थित थे। बैठक में महेंद्र चेंबूरकर, बिलियर्ड्स देवेंद्र जोशी, बॉडीबिल्डिंग के विजय जागड़े, मॉडर्न पेंटाथलॉन के विट्ठल शिरगांवकर शामिल हुए।

अजित पवार ने रखा खिलाड़ियों का पक्ष

सभी आयोजकों की बात सुनने के बाद अजित पवार ने खिलाड़ियों का पक्ष रखा। एक खिलाड़ी अपना करियर बनाने में वर्षों की महत्त्वाकांक्षा बिताता है। वह अपने हुनर ​​के दम पर प्रदेश और देश का नाम रोशन करते हैं। ऐसे समय में उनके प्रदर्शन का महिमामंडन किया जाना चाहिए। शिव छत्रपति राज्य खेल पुरस्कार इसी उद्देश्य से दिए जाते हैं। इसलिए खेलों को बाहर करना सही नहीं है क्योंकि वे ओलंपिक में शामिल नहीं हैं। खेल प्रतियोगिताएं भी हैं यानी फैलाव भी है। ऐसे मुद्दे उठाते हुए उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने इन सभी खेलों को दोबारा पुरस्कार के लिए शामिल करने के निर्देश दिए।

आवेदन की समय सीमा बढ़ाई

खेल उपनिदेशक संजय सबनीस ने बताया कि इस फैसले के बाद शासन स्तर पर तत्काल बदलाव किए जा रहे हैं और इन खेलों के लिए आवेदन इस वर्ष भी स्वीकार किए जाएंगे। हालांकि पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन की समय सीमा 22 जनवरी को समाप्त हो गई थी, लेकिन अब यह समझा जाता है कि निर्णय के बाद इन खेलों के लिए समय सीमा बढ़ा दी जाएगी।

Kommentarer


bottom of page