top of page
  • Writer's pictureBB News Live

राजभाषा को लेकर रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की बैठक

आरसीएफ को मिला राजभाषा के लिए द्वितीय पुरस्कार



मुंबई। भारत सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की बैठक में वर्ष 2020-21 में राजभाषा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यान्वयन के लिए आर सी एफ एल को द्वितीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार रसायन एवं उर्वरक मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया के हाथों आर सी एफ के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्रीनिवास मुडगेरीकर को दिया गया। इस अवसर पर भर्तृहरि महताब, सांसद (लोकसभा), प्रोफेसर रामगोपाल यादव, सांसद (राज्यसभा), रामनाथ ठाकुर, सांसद (राज्यसभा), सतीश चंद्र दुबे, सांसद (राज्यसभा), श्रीमती संघमित्रा मौर्या, सांसद (लोकसभा) आदि गणमान्य उपस्थित थे। 


प्राप्त जानकारी के अनुसार नई दिल्‍ली के लोधी रोड पर स्थित 

इंडिया हैबिटेट सेंटर में हुई रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की हिंदी सलाहकार समिति की बैठक भारत सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया की अध्यक्षता में संपन्न हुई।


इस कार्यक्रम का शुभारम्‍भ दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया। 

इस बैठक में उर्वरक एवं रसायन राज्यमंत्री भगवंत खुबा उपस्थिति थे। इस बैठक में उर्वरक विभाग, औषध विभाग तथा रसायन एवं पेट्रो रसायन विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण तथा उनके संबद्ध/उपक्रमों के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक उपस्थित थे ।


डॉ.मांडविया के हाथों मुडगेरीकर का सम्मान 

 इस बैठक में डॉ. मनसुख मांडविया ने मंत्रालय के सभी अधिकारियों को अपना ज्यादा से ज्यादा काम हिंदी में करने का निदेश दिए। उन्‍होंने कहा कि हमें सरकारी कामकाज में भारत की प्रांतीय भाषाओं के शब्दों के समन्वय से राजभाषा हिंदी का प्रचार प्रसार करना है। मंत्री द्वारा मंत्रालय के अधीन आने वाली सभी कंपनियों में वर्ष 2020-21 में राजभाषा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यान्वयन के लिए मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया के हाथों आर सी एफ के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्रीनिवास मुडगेरीकर को दिया गया। इसके अतिरिक्त भारत के कोने-कोने से आये सभी सदस्‍यों ने बैठक में राजभाषा हिंदी के प्रचार प्रसार के संबंध में मंत्रालय का मार्गदर्शन किया। राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने बैठक में भाग लेने वाले सभी सदस्यों का आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद दिया।

Comments


bottom of page