top of page
  • Writer's pictureMeditation Music

अब वसई से 15 मिनट में पहुंचे भाईंदर



Now Bhayander-Roro service will reach from Vasai in 15 minutes and will be available till this time
Now Bhayander-Roro service will reach from Vasai in 15 minutes and will be available till this time

रोरो सेवा का इतने बजे तक मिलेगा लाभ

भाईंदर : मुंबई के लोगों के लिए खुशखबरी है। वसई स्थित किल्लाबंदर और भाईंदर के बीच रोरो सेवा शुरू करने में बाधा बन रही

वसई जेट्टी का काम पूरा कर लिया गया है। इसके लिए महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड तैयारी कर ली है। दोनों शहरों के बीच रोरो सेवा का

लाभ आज से मिलेगा। शुक्रवार को केंद्रीय बंदरगाह विकास मंत्री सर्बानंद सोनोवाल परियोजना का उद्घाटन करेंगे। अनुमान लगाया जा रहा है कि रोरो सेवा से वसई से भाईंदर तक का सफर एक घंटे से घटकर सिर्फ पंद्रह मिनट में पूरा कर लिया जाएगा। यह सेवा

शुभारंभ से दोनों शहरों के बीच की दूरी 34.7 किमी कम हो जाएगी। इससे कुल 55 मिनट बच जाएंगे। इस सेवा का लाभ सुबह 6 से

शाम 7 बजे तक उठाया जा सकेगा।

सागरमाला योजना

मुंबई में ट्रैफिक की बड़ी समस्या है। वसई-विराकर से मुंबई और मीरा-भाईंदर की ओर जाने वालों को वसई जाते समय भारी ट्रैफिक

जाम से जूझना पड़ता था। एनबीटी की खबर के मुताबिक, केंद्र सरकार ने साल 2016 में 'सागरमाला योजना' के तहत भाईंदर पश्चिम से वसई किल्लाबंदर तक रोरो सेवा शुरू करने का निर्णय लिया। इस महत्वपूर्ण परियोजना के लिए छह करोड़ रुपये से अधिक का फंड भी आवंटित किया गया था।

मैरीटाइम बोर्ड की प्लानिंग

जानकारी के अनुसार, भाईंदर जेट्टी का काम बाद में पूरा हो गया, लेकिन वसई जेट्टी का काम पुरातत्व विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र और अन्य कारणों के चलते कई वर्षों तक रुका रहा। अब लंबे इंतजार के बाद वसई जेट्टी बनकर तैयार हो गई है। लिहाजा, रोरो

सेवाओं को चलाने के लिए सुवर्णादुर्ग नामक निजी कंपनी को भी ठेका दिया गया है। मैरीटाइम बोर्ड अब सेवा शुरू करने की प्रक्रिया में है।

Comments


bottom of page