top of page
  • Writer's pictureBB News Live

50 हजार ट्रेडर्स को नोटिस

उल्हासनगर मनपा को बिजनेस लाइसेंस से होगी सालाना 25 करोड़ की आय!




उल्हासनगर। उल्हासनगर नगर निगम ने शहर के करीब 50 हजार व्यापारियों को बिजनेस लाइसेंस के लिए नोटिस जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस बिजनेस लाइसेंस से नगर निगम को प्रतिवर्ष लगभग 25 करोड़ रुपए की आय प्राप्त होगी। हालांकि, नगर निगम द्वारा बिना कोई प्रक्रिया लागू किए सीधे व्यापारियों को नोटिस जारी करने के मामले में कुछ व्यापारियों और जनप्रतिनिधियों ने इसका विरोध किया है। हालांकि, यह प्रक्रिया सरकारी नियमों के अनुसार चल रही है और नगर पालिका के डिप्टी कमिश्नर ने स्पष्ट किया है कि यह विरोध केवल राजनीतिक लाभ के लिए है।

लाइसेंस प्राप्त करना अनिवार्य

यह देखा जा सकता है कि उल्हासनगर नगर निगम के अंतर्गत सरकारी सेवाओं से लाभान्वित होने वाले नागरिकों में उन सेवाओं के बदले में सरकार को कर देने के प्रति बहुत उदासीनता है। इसका नगर पालिका की वित्तीय आय पर बड़ा असर पड़ा है। इसके चलते नगर निगम भी वित्तीय हिसाब-किताब लगाते-लगाते थक जाता है। इसलिए नगर निगम की वित्तीय आय बढ़ाने के लिए नगर निगम ने शहर के करीब 50 हजार छोटे-बड़े व्यापारियों को नोटिस जारी करना शुरू कर दिया है, जो लाइसेंस के अभाव में कई वर्षों से कारोबार कर रहे हैं। राज्य सरकार की अधिसूचना के अनुसार, नगरपालिका सीमा के भीतर व्यवसाय करने के लिए नगरपालिका लाइसेंस प्राप्त करना अनिवार्य है।

10 हजार व्यापारियों को नोटिस जारी

हालांकि, उपायुक्त अशोक नाइकवाड़े ने कहा कि उल्हासनगर में व्यापारी पिछले कई वर्षों से बिना लाइसेंस के कारोबार कर रहे हैं, जिससे नगर पालिका को भारी वित्तीय नुकसान हो रहा है। इसलिए शहर के हर व्यापारी की दुकानों को नोटिस जारी किए जा रहे हैं और अब तक 10 हजार व्यापारियों को नोटिस जारी किए जा चुके हैं। चरणबद्ध तरीके से 50,000 व्यापारियों को नोटिस जारी किए जाएंगे।

आरोप है कि नगर पालिका ने प्रक्रिया नहीं की लागू

नाइकवाड़े ने कहा कि व्यापारियों की बैठकें भी हुई हैं और व्यापारियों ने भी सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है और सैकड़ों व्यापारियों के लिए लाइसेंस के लिए नगर निगम में आवेदन किया है। हालांकि, नगर निगम द्वारा विज्ञापन प्रकाशित करने, आपत्तियां उठाने और सुझाव मांगने की कोई प्रक्रिया लागू किए बिना राज्य सरकार के नियमों का उल्लंघन करते हुए लाइसेंस के लिए व्यापारियों को नोटिस जारी किए। साई पार्टी के अध्यक्ष जीवन एडनानी ने इस प्रक्रिया पर अपना विरोध जताया है।

Comments


bottom of page