top of page
  • Writer's pictureBB News Live

मोबाइल चोरों के खिलाफ मुंबई सायबर सेल पुलिस की विशेष मुहीम

15 लाख 50 हजार के 105 मोबाइल हुए बरामद

रवि निषाद/मुंबई। मुंबई शहर पुलिस के अधीन बढ़ते मोबाइल चोरी की घटनाओ पर अंकुश लगाने के लिए मुंबई पुलिस आयुक्त संजय पांडेय के निर्देश पर सायबर सेल पुलिस ने विशेष मुहीम शुरू किया है।जिसके तहत पुलिस ने डेढ़ महीने मेहनत कर 15 लाख 50 हजार रूपये के कुल 105 चोरी के मोबाइल बरामद किए है।




ऑन लाइन के इस जमाने में आजकल मोबाइल हर किसी के लिए महत्वपूर्ण हो गया है।बैंक के व्यवहार, कार्यालय के कामकाज,स्कुलो की ऑन लाइन पढ़ाई सब कुछ मोबाइल पर ही शुरू है।ऐसे में अगर किसी का मोबाइल चोरी हो जाए तो उसका सारा कामकाज ठप्प पड़ जाता है।मध्य सायबर सेल विभाग के वरिष्ठ पुलिस निरिक्षक किशोर महादेव शिंदे ने बताया की मुंबई पुलिस मोबाइल चोरी के मामले में शिकायतकर्ता को सिर्फ मिसिंग का प्रमाण पत्र देकर अपना काम इतश्री कर लेती थी।हालांकि पुलिस को ऐसे मामले में एफआईआर दर्ज कर आरोपी तक पहुंचने की जरूरत थी।लेकिन काम के बोझ बंदोबस्त व कार्यालय के काम काज के चलते पुलिस अपना पल्ला झाड़ने का काम करती थी।जब इस मामले की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियो को मिली तो अचरज में पड़ गए।उन्होंने उच्च स्तर इस संबन्ध में चर्चा कर इस मामले को विशेष मुहीम शुरू करने का फैसला लिया।


मुंबई पुलिस आयुक्त संजय पांडेय,सह पुलिस आयुक्त मिलिंद भारंबे,अतिरिक्त पुलिस आयुक्त वीरेश प्रभु, सहायक पुलिस आयुक्त नितिन अलकनुरे के निर्देश व मार्गदर्शन में मध्य सायबर सेल पुलिस के सौजन्य से गत दो माह पहले मोबाइल चोरो के खिलाफ विशेष मुहीम शुरू की गई थी।


उपरोक्त विषय पर बातचीत करते हुए मध्य सायबर सेल विभाग के वरिष्ठ पुलिस निरिक्षक किशोर महादेव शिंदे ने बताया की हमारी पुलिस ने विशेष मुहीम चलाकर उत्तर प्रदेश,बिहार,केरल,गुजरात,मध्य प्रदेश, राजस्थान के अलावा पूना,कोल्हापुर,उरन,बेंगलोर,बीड, गोंदिया आदि ठिकानों से कुल 105 मोबाइल पुलिस ने हस्तगत किया है।जिनकी कुल कीमत 15 लाख 50 हजार रुपए बताए जाते हैं।इस काम के लिए पुलिस उपनिरीक्षक सुयोग अमृतकर,पुलिस कर्मचारी नंदकिशोर महाजन,जय गदगे महिला पुलिस कर्मचारी शीतल सावंत व सुप्रिया राउत ने दिन रात मेहनत कर तांत्रिक जांच पड़ताल करते हुए ऐसे मामलो को सुलझाने का बेहद ही सराहनीय काम पुलिस ने किया है।जिसकी पुरे पुलिस विभाग में चर्चा हो रही है।

Comments


bottom of page