top of page
  • Writer's pictureRavi Nishad

घाटकोपर होर्डिंग हादसे में मनपा का इंजीनियर गिरफ्तार

घाटकोपर होर्डिंग हादसे में मनपा का इंजीनियर गिरफ्तार।

मुख्य आरोपी भावेश भिंडे को 14 दिन की जेल।

मुंबई।

मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने घाटकोपर होर्डिंग ढहने के मामले में 30 मई को एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।आरोपी की पहचान 47 वर्षीय मनोज रामकृष्ण संधू के रूप में हुई है,जो बीएमसी में अनुमोदित इंजीनियर है।एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इसने ही ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड को स्थिरता प्रमाण पत्र जारी किया था।इसके अलावा, क्राइम ब्रांच ने मीडिया कंपनी की निदेशक जान्हवी मराठे (45) की अग्रिम जमानत का विरोध किया है क्योंकि वह फरार है।इस बीच,गिरफ्तार मुख्य आरोपी भावेश भिंडे को बुधवार के दिन पुलिस रिमांड ख़त्म होने के बाद अदालत में पेश किया गया।कोर्ट ने उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) लखमी गौतम ने बताया कि,संघू ने 24 अप्रैल,2023 को ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड को स्थिरता प्रमाण पत्र जारी किया था।प्रमाणपत्र में होर्डिंग का आकार 120 फीट x 140 फीट बताया गया है।मुलुंड में रहने वाले संघू को वहां से गिरफ्तार किया गया।वह बीएमसी की अनुमोदित इंजीनियरों की सूची में हैं.जान्हवी मराठे ठाणे में रहती हैं और 2016 से दिसंबर 2023 तक ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड की निदेशक थीं।जिसके बाद भावेश भिंडे कंपनी के निदेशक बन गई है।सूत्रों के अनुसार,कंपनी का पैसा जान्हवी मराठे,भावेश भिंडे,उनकी पत्नी और बच्चों के बैंक खातों में जमा किया जा रहा था।

इस बीच,क्राइम ब्रांच ने सहायक पुलिस आयुक्त (जीआरपी) शाहजी निकम का बयान दर्ज किया है. निकम 2022 में जीआरपी में थे,जब ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड को होर्डिंग की अनुमति दी गई थी. सूत्रों के अनुसार,निकम ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित किया कि,ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड अनधिकृत अनुमति मांग रहा है।इसके बावजूद,उनके वरिष्ठ ने ईगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के आवेदन को मंजूरी दे दी और कंपनी को बिना टेंडर के होर्डिंग लगाने की अनुमति दे दी थी।

Comentarios


bottom of page