top of page
  • Writer's pictureBB News Live

पांच वर्षीय बच्ची का अपहरण कर बेचने की फिराक में जुटी 4 महिला आरोपी गिरफ्तार

भांडुप पुलिस ने 12 घन्टे के भीतर आरोपियों को पहुंचाई जेल


मुंबई। भांडुप पुलिस की हद से चोरी की गई एक पांच वर्षीय बच्ची को पुलिस ने 12 घण्टे के भीतर सुखरूप बरामद कर उसे अपहरण करने वाली 4 महिला आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है।पकड़ी गई महिला आरोपियों को पुलिस ने मा.न्यायालय में पेश किया जहां पर मा.न्यायाधीश ने आरोपी महिलाओ को 28 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेजा है।

          गौरतलब है की 24 मार्च को करीब 9 बजे एक पांच वर्षीय बच्ची होली के कलर भरने के लिए दूकान पर फुग्गा लाने गई थी।लेकिन काफी देर बाद भी जब वह बच्ची वापस घर नहीं आई तो उसके परिजन इधर उधर उसकी तलाश करने लगे।काफी खोजबीन के बाद भी जब बच्ची नहीं मिली तो उसके परिजन भांडुप पुलिस पहुंच कर इस मामले की शिकायत किए।वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दत्तात्रय खंडागले के निर्देश पर पुलिस ने यह मामला अपराध क्रमांक 187/2024 भादवी 363,370 व 34 के तहत दर्ज किया।पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू किया तो पुलिस को मालुम पडा की एक महिला उक्त बच्ची को रिक्शा में बैठा कर ले गई है जो की पीड़ित बच्ची के आसपास ही रहती है।पुलिस ने फ़ौरन खुशबु गुप्ता उर्फ़ ख़ुशी नामक उक्त महिला को हिरासत में लिया।उससे कड़ाई से पूछतांछ में पुलिस को मालुम पड़ा की खुशबु गुप्ता के साथ शामिल अन्य तीन महिलाओ ने मिलकर उक्त बच्ची का अपहरण किया है और उसे बेचने के लिए ठाणे में रखे हुए है।मानवी यंत्रणा व तांत्रिक जांच करते हुए पुलिस ने इस मामले में शामिल खुशबु रामअशीष गुप्ता (19),मैना राजाराम दिलोड (39),दिव्या कैलाश सिंह (33) व पायल हेमन्त शाह (32) को गिरफ्तार किया और पीड़ित बच्ची को सुखरूप बरामद कर उसे उसके परिजनों को सौंपा है।इस मामले की जांच पड़ताल यहां के डिटेक्शन अधिकारी अभिजीत टेकवाडे,गुंडा स्टॉफ के पीएसआई मोरे,यहां के पुलिस कर्मचारी वाघ,कचरे,कोली,      आटपाटकर,महिला पुलिस कर्मचारी गवली व गरुड़ के अलावा पुलिस उपायुक्त कार्यालय की तांत्रिक जांच की महिला पुलिस कर्मचारी रूपाली हाडवले ने की है।जिसके चलते होली के दिन पीड़ित परिवार व स्थानीय जनता में ख़ुशी का माहौल बना है।उपरोक्त अधिकारियो कर्मचारियों के सराहनीय काम को देख अतिरिक्त पुलिस आयुक्त महेश पाटिल,पुलिस उपायुक्त पुरुषोत्तम कराड,सहायक पुलिस आयुक्त जीतेन्द्र आगरकर व वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दत्तात्रय खंडागले ने जमकर सराहना की है।


Kommentare


bottom of page