top of page
  • Writer's pictureBB News Live

वार्ड क्रमांक 167में चुनावी सरगर्मी बढ़ी

समाजसेवक लेनीश अरिमबूरे अभी से हुए सक्रिय



मुंबई। मनपा चुनाव के लिए नए वार्डों  के गठन और घोषणा के बाद से मुंबई मनपा चुनाव की सुगबुगाहट तेज हो गई है। सेना, भाजपा, कांग्रेस, राकांपा और अन्य राजनीतिक दलों की ओर से मनपा चुनाव के लिए हरसंभव तैयारी शुरू कर दी गई है। अनेक वार्डों में इस बार सामाजिक कार्यकर्ताओ की ओर से भी चुनाव लड़ने के लिए कमर कस ली गई है। विशेष रूप से नागरिकों व कार्यकर्ताओं के दबाव और बार-बार जनता के कहने पर साकीनाका के जाने माने समाजसेवक लेनिश अरिमबूरे  ने पुराने वार्ड क्रमांक 162 और वर्तमान  वार्ड क्रमांक 167से इस बार मनपा चुनाव में किस्मत आजमाने का मन बना लिया है।  उन्होंने कहा की चूंकि मुझे जमीन तलाशने या नागरिकों को रिझाने की जरूरत नहीं, मेरा काम ही मेरी पहचान है। समाजसेवक और बज्मे इंसानियत वेल्फेयर एसोसिएशन के सदस्य लेनिश अरिमबूरे ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा की मैंने मन बना लिया है तो हर हाल में 2022  में होने वाले मनपा चुनाव में वार्ड क्रमांक 167  से चुनाव लडुंगा।


खबर के मुताबिक स्थानीय जनता के लिए समर्पित लेनिशअरिमबूरे के उत्कृष्ट कार्यो को देखते हुए मतदाताओं ने उन्हें आगामी मनपा चुनाव लड़ने के लिए लम्बे समय दबाव डाल रहे हैं। जनता के दबाव में लैनिश ने  वार्ड क्रमांक 167, जरीमरी, सफेदपूल से चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। मनपा चुनाव को देखते हुए सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी तैयारियों में जुटे हैं। मौजूदा नगरसेवक , नेता और दिग्गज कार्यकर्ता अपने लिए जमीन तलाश रहे हैं। इनमें कुछ ऐसे भी हैं जो काफी अनुभवी हैं इसके बावजूद जनता के दबाव  में चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी कर रहे हैं। चुनाव की तिथी घोषित नहीं की जा रही है। कयास लगाया जा रहा है कि मनपा चुनाव अक्टूबर 2022में संपन्न होगा। बहरहाल जैसे जैसे मनपा चुनाव का समय करीब आता  जा रहा  हैं। चुनावी तापमान बढ़ता ही जा रहा है। लेनिश अरिमबूरे ने कहा की मुझे जमीन तलाशने की जरूरत नहीं है। मैं करीब तीन दशक से इस वार्ड के गली गली से वाकिफ हूं ।


एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मेरा चुनावी मुद्दा अन्य दलों से अलग होगा। उन्होंने अपने मुद्दों के  बारे में कुछ भी बताने से इंकार कर दिया। ऐसे में कयास लगाया जा रहा है कि  के चुनावी मैदान में आने से मनपा के वार्ड क्रमांक 167  का तापमान और भी बढ़ गया है। इसके अलावा वार्ड क्रमांक 167 की झोपड़पट्टियों में व्याप्त समस्या को सुलझाने के लिए लेनिश अरिमबूरे पूरी मेहनत और लगन के साथ जुट गए हैं।

Comments


bottom of page