top of page
  • Writer's pictureBB News Live

अंधेरी पूर्व विधानसभा में उपचुनाव की सरगर्मी हुई तेज BJP और शिवसेना के बीच सीधा मुकाबला होने का आसार



मुंबई । आगामी मुंबई मनपा चुनाव को लेकर जहां प्रमुख राजनीतिक दलों शिवसेना, भाजपा, कांग्रेस , राकांपा, मनसे और आप पार्टी की ओर से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं वहीं अंधेरी पूर्व विधानसभा के विधायक स्वर्गीय रमेश लटके के निधन के बाद से रिक्त हुई अंधेरी विधानसभा में उपचुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है। महत्वपूर्ण बात यह है कि वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ चुके मुरजी भाई पटेल इस बार भाजपा से सबसे प्रबल  उम्मीदवार माने जा रहे हैं। राजनीतिक सूत्रों का कहना है कि मुरजी पटेल ही अंधेरी पूर्व विधानसभा से उपचुनाव में भाजपा के प्रत्याशी हैं। सिर्फ हाई कमान की अंतिम मोहर लगना बाकी है। ऐसे में शिवसेना किसे अपना उम्मीदवार बनाती है इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं।

                     

ज्ञात हो कि राज्यसभा चुनाव ओर सोमवार को हुए विधानपरिषद चुनाव में हुई भाजपा की जीत से जहां भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है वहीं शिवसेना में निराशा फैली हुई है।   कयास लगाया जा रहा है कि मनपा चुनाव के ठीक एक माह पहले अंधेरी विधानसभा पूर्व का उपचुनाव संपन्न हो सकता है। ऐसे में शिवसेना अपने उम्मीदवार को लेकर असमंजस की स्थिति में है।

                             

बता दें कि अंधेरी पूर्व विधानसभा में उत्तरभारतीय , मराठी, मुस्लिम मतदाताओं की भरमार है। इसके अलावा गुजराती, दक्षिण भारतीय, ईसाई मतदाता भी हैं। ऐसे में कयास लगाया जाता है कि उत्तरभारतीय मतदाता यहां निर्णायक भूमिका निभायेंगे। यदि हम उम्मीदवारों की बात करें तो भाजपा अपने लोकप्रिय उम्मीदवार मुरजी पटेल को अंदरूनी तौर पर उम्मीदवार बनाने की हरसंभव तैयारी में हैं। पटेल की खाशियत यह है कि वे उत्तरभारतीय, मराठी, दलित, मारवाड़ी, गुजराती और दक्षिण भारतीय समुदाय में काफी लोकप्रिय हैं। यही कारण है कि वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में मुरजी पटेल ने बतौर निर्दलीय प्रत्याशी बनकर चुनाव में लगभग 47000 महत्वपूर्ण मत लिए लेकर संपूर्ण मुंबई में सबसे प्रभावशाली उम्मीदवार के तौर पर उभरे थे। वहीं शिवसेना अंधेरी विधानसभा से रमेश लटके की पत्नी रुतुजा लटके को चुनाव लड़ाने की तैयारी में है। किंतु विश्वस्त सूत्रों का मानना है कि ऋतुजा रमेश लटके की ओर से चुनाव लड़ने के बारे में किसी भी तरह का स्पस्टीकरण सामने नहीं आया है। ऐसे में शिवसेना उनकी जगह पूर्व नगरसेवक प्रमोद सावंत के नाम पर विचार कर सकती है। गौरतलब हो कि प्रमोद सावंत वर्ष 2012में अपने क्षेत्र से कांग्रेस के किले को ढहाकर शिवसेना को जीत दिलाई थी।


यह सिलसिला वर्ष 2017 में भी कायम रहा। वहीं राजनीतिक सूत्रों का मानना है कि शिवसेना के लिए अंधेरी विधानसभा की उपचुनाव की राह आसान नहीं है क्योंकि भाजपा ने अभी से ही अपने सबसे प्रभावशाली लोकप्रिय उम्मीदवार मुरजी पटेल को चुनाव मैदान में उतारने की हरसंभव मन बना चुकी है। बता दें कि हाल ही में मुंबई के दादर में स्थित कार्यालय में अंधेरी विधानसभा उपचुनाव के बारे में मन्थन हुई थी। इस बैठक में मुंबई भाजपा अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा, मुंबई भाजपा चुनाव प्रभारी व  विधायक आशीष शेलार सहित भाजपा के अनेक नेता और कार्यकर्ता उपस्थित थे। बताया जाता है कि मुंबई भाजपा के चुनाव प्रभारी व विधायक आशीष शेलार ने अभी से ही भाजपा कार्यकर्ताओं को पूरी ताकत के साथ अंधेरी विधानसभा उपचुनाव में जुट जाने का आदेश दिया है।

bottom of page