top of page
  • Writer's pictureBB News Live

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल हुए डॉ. अरविंदर सिंह

123 डिग्रियां हासिल करने वाले पहले भारतीय बने डॉ. सिंह 




मुंबई। 123 डिग्रियां व डिप्लोमा हांसिल करने वाले पहले भारतीय डॉ. अरविंदर सिंह का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड 2022 में शामिल किया गया है। यह खिताब उन्हें आईपीएस किरण बेदी के हांथो सौंपा गया। डॉ. अरविंदर सिंह उदयपुर राजस्थान के अर्थ ग्रुप के डायरेक्टर व सीईओ हैं। डॉ. सिंह पहले ऐसे पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल डॉक्टर हैं , जिनको मेडिकल साइंस के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में महारत हांसिल है। उन्होंने मैनेजमेंट, कानून , विशेषज्ञ , कोस्मेटोलॉजी, कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजी, डिजिटल मार्केटिंग का अच्छा अनुभव है।


उनके पास कुल 123 डिग्री, डिप्लोमा व सर्टिफिकेट है , जिसमें से 77 ऐकडेमिक व 46 नॉन-एकेडेमिक प्रमुख है। डॉ. सिंह ने 2009 में आईआईएम टॉप करने वाले भारत के प्रथम डॉक्टर होने का गौरव प्राप्त किया था। आईआईएम करते हुए ही उनको 2008 में सबसे बड़ा 90 लाख का पैकेज स्कॉटलैंड से मिला था। लेकिन उन्होंने उस पैकेज को ठुकरा कर भारत में रहकर कार्य करने का फैसला लिया। डॉ. सिंह ने शिक्षा क्षेत्र के अलावा निशानेबाज़ी में गोल्ड मैडल, स्कूबा डाइविंग का रिकॉर्ड, बिज़नेस लीडर अवार्ड जैसी महत्वपूर्ण उपलब्धिया हांसिल की है।  


मौजूदा समय में डॉ.अरविंदर सिंह कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजी व  पैथोलॉजी के क्षेत्र में अर्थ ग्रुप के डायरेक्टर व सीईओ हैं। उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड , यू के , अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ़ एस्थेटिक मेडिसिन, कैनेडियन बोर्ड ऑफ़ एस्थेटिक मेडिसिन, इंटरनेशनल अकादमी ऑफ़ स्वीडन तथा जर्मनी से कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजी , एस्थेटिक मेडिसिन, सौंदर्य शास्त्र व क्लिनिकल कॉस्मेटोलॉजी , मेडिकल लेज़र आदि विषयों में विभिन्न डिप्लोमा व सर्टिफकेट हासिल कर राजस्थान के प्रथम इंटरनेशनल बोर्ड सर्टिफाइड कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजिस्ट व एस्थेटिक फिजिशियन होने का भी गौरव प्राप्त किया।


हाल ही में डॉ. सिंह को कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजी क्षेत्र में उत्कृष्ट व उल्लेखनीय कार्य करने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री ने भी सम्मानित किया। डॉ. सिंह का मानना है कि मेडिकल के क्षेत्र में क़्वालिटी अत्यंत महत्वपूर्ण है अतः  उनके नेतृत्व में अर्थ स्किन सेंटर भारत का प्रथम QAI क़्वालिटी प्रमाणित सेंटर बना, तथा साथ ही अर्थ डायग्नोस्टिक भी साउथ राजस्थान का पहला डायग्नोस्टिक सेंटर है, जिसको NABL व NABH दोनों क़्वालिटी प्रमाणपत्र प्राप्त है। 


डॉ. सिंह ने हाल ही में इंस्टिट्यूट ऑफ़ एस्थेटिक मेडिसिन, कॉस्मेटोलॉजी व लेज़र की स्थापना भी की है, जिसको लंदन से मान्यता व यूएसए से रजिस्ट्रेशन मिला है। उन्होंने आशा जताई है कि इस सेंटर से ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थी रोज़गार परक कोर्स करेंगे और मेडिकल क्षेत्र में भी यह इंस्टिट्यूट ट्रेनिंग व सर्टिफकेशन उपलब्ध करवाएगा।  इसके अंतर्गत मेडिकल कॉस्मेटोलॉजी, एस्थेटिक्स व मेडिकल लेज़र  के डिप्लोमा, फ़ेलोशिप्स की ट्रेनिंग होगी।

Comentarios


bottom of page