top of page
  • Writer's pictureMeditation Music

मुंबई में प्रत्येक वॉर्ड में होंगे 30 से 35 क्लीनअप मार्शल !



There will be 30 to 35 cleanup marshals in each ward in Mumbai! Will take action against those spreading filth...
cleanup marshals

गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ लेंगे ऐक्शन...

मुंबई : राष्ट्रीय स्तर पर सफाई में पिछड़ने के बाद बीएमसी ने सार्वजनिक जगहों पर गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ ऐक्शन के लिए क्लीनअप मार्शल की तैनाती जल्द से जल्द करने का फैसला किया है। बीएमसी फरवरी से मुंबई की सड़कों पर क्लीनअप मार्शल तैनात करने की योजना बना रही है।

बीएमसी के उपायुक्त (कचरा) संजोग कबरे के अनुसार मुंबई की सड़कों, चौक और महत्वपूर्ण स्थानों पर 720 क्लीनअप मार्शल तैनात करने की योजना है। बीएमसी ने सभी 24 वॉर्ड में से प्रत्येक में 30 से 35 क्लीन अप मार्शल नियुक्त करने की योजना बनाई है। क्लीनअप मार्शल द्वारा लगाए गए जुर्माने की 50 प्रतिशत राशि कॉन्ट्रैक्टर को, जबकि 50 प्रतिशत राशि बीएमसी को मिलेगी।

कबरे के अनुसार क्लीनअप मार्शल को तैनाती के दौरान एक ड्रेस दिया जाएगा, जिस पर उनकी पूरी आइडेंटिटी के साथ उनका नंबर, नेम प्लेट भी नाम होगा। यदि कोई शिकायत करना चाहे, तो ड्रेस में पीछे एक नंबर भी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि क्लीन अप मार्शल का सिर्फ पुलिस वेरिफिकेशन करना बाकी है।

बीएमसी ने नियुक्ति से पहले उनकी शैक्षिक योग्यता के साथ पुलिस वेरिफिकेशन भी अनिवार्य किया है। कबरे ने उम्मीद जताई कि जल्द ही यह काम पूरा हो जाएगा, जिसके बाद कमिश्नर मार्शल को सड़कों पर तैनात करने की अनुमति दे देंगे।

यह मार्शल सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी फैलाने वालों से 200 रुपये से लेकर 1000 रुपये तक दंड वसूलेंगे। यह दंड कैश न होकर ऑनलाइन पेमेंट होगा। इसके लिए प्रत्येक मार्शल को स्कैनर उपलब्ध कराया जाएगा। हालांकि, जुर्माने की राशि यदि कोई कैश देना चाहेगा, तो मार्शल उसे भी स्वीकार कर सकेंगे।

इससे पहले बीएमसी ने दिसंबर, 2023 में क्लीन अप मार्शल सड़कों पर तैनात करने की योजना बनाई थी, लेकिन कुछ तकनीकी दिक्कतों के कारण मार्शल तैनात नहीं हो सके थे। कोरोना संकट के दौरान 20 अप्रैल, 2020 से क्लीनअप मार्शल तैनात किए गए थे। कोरोना नियंत्रण के बाद बीएमसी ने मार्च, 2022 से क्लीनअप मार्शल की सेवाएं समाप्त कर दी थी।

इस दौरान क्लीनअप मार्शल, रेलवे और मुंबई पुलिस ने मिलकर सड़कों पर थूकने वालों और गंदगी फैलाने वालों से संयुक्त रूप से 90 करोड़ रुपये से अधिक वसूल किया था। बीएमसी उपायुक्त ने बताया कि सभी 24 वॉर्डों में क्लीनअप मार्शल को गंदगी फैलाने वालों से 100 रुपये, 200 रुपये, 500 रुपये और 1000 रुपये तक जुर्माना वसूलने का अधिकार होगा।

मुंबई की सड़कों पर सफाई की जिम्मेदारी उठाने वाले मार्शल का कार्यकाल विवादों में रहा है। बिना मास्क वालों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान क्लीन अप मार्शल अक्सर विवादों में रहे। उस दौरान उन पर नागरिकों से पैसे की उगाही, पैसे के लिए मारपीट करने और ज्यादा पैसे वसूलने के आरोप लगे थे। तत्कालीन मेयर किशोरी पेडणेकर ने मार्शल की गतिविधियों पर कड़ी नाराज़गी जताई थी, जिसके बाद बीएमसी ने मार्च, 2022 से इसका कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू नहीं किया और मुंबई की सड़कों से मार्शल गायब हो गए थे।

Comentários


bottom of page